City Headlines

Home » मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने दुनिया को अलविदा कहा

मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने दुनिया को अलविदा कहा

लम्बी बीमारी के बाद रविवार की रात अस्पताल में ली अंतिम साँस, 71 साल के थे राणा

by Rashmi Singh

लखनऊ। माँ पर लिखी अपनी रचनाओं के लिए मशहूर शायर मुनव्वर राणा का रविवार की रात निधन हो गया । उन्होंने लखनऊ में 71 साल की उम्र में आखिरी सांस ली। जानकारी के अनुसार वह पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे और उनका इलाज लखनऊ के संजय गांधी पीजीआई के आईसीयू वॉर्ड में चल रहा था। रविवार देर रात साढ़े 11 बजे के आसपास उन्होंने अंतिम सांस ली।
जानकारी के मुताबिक, मुनव्वर राणा को क्रोनिक किडनी बीमारी की समस्या थी और हफ्ते में तीन बार उन्हें डायलसिस से गुजरना पड़ता था. पिछले दिनों उन्हें निमोनिया भी हुआ था. मुनव्वर राणा को साहित्य अकादमी पुरस्कार और माटी रतन सम्मान से सम्मानित किया गया था। राणा की हिंदी, अवधी, उर्दू भाषा में कई रचनाएं प्रकाशित हो चुकी हैं। हालांकि देश में असहिष्णुता का आरोप लगाते हुए उन्होंने अवॉर्ड वापस लौटा दिया था।
मुनव्वर राणा का जन्म 26 नवंबर 1952 को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में हुआ था। उर्दू साहित्य और कविता में उनका योगदान, खासकर उनकी गजलों के लिए व्यापक रूप से पहचाना गया। वह अक्सर हिंदी और अवधी शब्दों का इस्तेमाल करते थे, जो भारतीय श्रोताओं को काफी पसंद आता था। उनकी सबसे प्रसिद्ध कविता ‘मां’ है, जो गजल शैली में मां के गुणों का वर्णन करती है।
वहीं पिछले साल मई में भी उनकी हालात काफी ज्यादा बिगाड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें लखनऊ के अपोलो अस्पताल में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था। उस समय शायर के पित्ताशय (गाल ब्लैडर) का ऑपरेशन हुआ था जिसके बाद से उनकी तबीयत बिगड़ गई थी। हालांकि उस समय वह ठीक हो गए थे। वहीं पिछले दिनों किडनी संबंधित परेशानियों के बाद उन्हें एसजीपीजीआई में भर्ती कराया गया था।
मां पर लिखी अपनी रचनाओं के लिए थे प्रसिद्ध
रायबरेली जिले के मूल निवासी मशहूर शायर राणा को साल 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। ‘मां’ पर लिखी अपनी रचनाओं से शायर राणा ने देश-विदेश में खूब ख्याति अर्जित की। शायर मुनव्वर राणा जितने ज्यादा मशहूर रहे उतने ही विवादों में भी रहे। पिछले साल ही उन्होंने पिछले साल ही वाल्मीकि समुदाय की तालिबान से तुलना की थी जिसके बाद बवाल मच गया था। इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने इस मामले में हजरतगंज कोतवाली में शायर मुनव्‍वर राणा के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के संबंध में उनकी गिरफ्तारी पर भी रोक लगाने से इनकार कर दिया था।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.