City Headlines

Home » इजराइली बमबारी से गाजा में कहीं भी सुरक्षित नहीं फलस्तीनी, चारो तरफ हमला

इजराइली बमबारी से गाजा में कहीं भी सुरक्षित नहीं फलस्तीनी, चारो तरफ हमला

by Rashmi Singh

यरुशलम । इजराइली लड़ाकू विमानों ने शनिवार-रविवार की रात खान यूनिस और रफाह शहरों पर बमबारी कर फलस्तीनी लोगों को जान-माल का भारी नुकसान पहुंचाया है। फलस्तीन के गाजा पट्टी में इजराइली बमबारी से कहीं भी कोई नागरिक सुरक्षित नहीं है। समय बीतने के साथ उनके लिए रहने की जगह कम होती जा रही है।
इजराइली हमले का लगातार निशाना बन रहा यह वही रफाह शहर है जहां दक्षिण गाजा में रहने वाले फलस्तीनियों को सुरक्षा की दृष्टि से जाने के लिए इजराइली सेना कह रही है। युद्धविराम के बाद महज तीन दिनों की लड़ाई में घायल हुए लोगों से गाजा के अस्पताल भर गए हैं। इजराइली हमलों से गाजा में अभी तक कुल 15,400 से ज्यादा लोग मारे गए हैं, जबकि 40 हजार से ज्यादा घायल हुए हैं।
इजराइली सेना जिस तरह से दक्षिणी गाजा के सबसे बड़े शहर खान यूनिस को निशाना बना रही है उससे संकेत मिल रहा है वहां जल्द ही इजराइली सेना का प्रवेश होने वाला है। शुक्रवार से शुरू हुए युद्ध के दूसरे चरण में इजराइली सेना शहर पर लगातार हवाई हमले और टैंकों से गोलाबारी कर रही है।
दक्षिणी गाजा में भी जमीनी सैन्य कार्रवाई शुरू करने का संकेत देते हुए प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि पूरे गाजा में जमीनी कार्रवाई के बिना युद्ध के उद्देश्यों की प्राप्ति संभव नहीं है। इजराइल के छेड़े युद्ध का उद्देश्य हमास को खत्म करना और अगवा कर बंधक बनाए गए सभी लोगों को सुरक्षित रिहा करवाना है।
खान यूनिस और अन्य दक्षिणी इलाकों में रहने वाले आमजनों को रफाह जाने के लिए इजराइली सेना लगातार संदेश दे रही है। लेकिन दक्षिण के लोग कह रहे हैं इजरायली सेना जिस रफाह शहर में जाने के लिए कह रही है वहीं पर वह हमले कर रही है। इजराइली सेना गाजा पट्टी को फिलहाल तीन हिस्सों में बांटकर कार्रवाई कर रही है। कहा है कि हमास के ठिकानों को तलाशकर उन्हें नष्ट किया जा रहा है।
गाजा सिटी के मूलवासी 37 वर्षीय माहेर ने टेलीफोन से बताया है कि इजराइली सेना के कहने पर वह दक्षिण के अल करारा कस्बे में आए। युद्धविराम के बाद जब इजराइली हमले शुरू हुए तब वह अपने तीन बच्चों के परिवार के साथ बचने के लिए खान यूनिस शहर के भीतरी इलाके में आ गए, लेकिन अब वह बमबारी के बीच रफाह जाने की कोशिश में हैं।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.