City Headlines

Home » राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर ब्रिटेन में उत्साह उफान पर, 22 जनवरी को इंग्लैंड भी मनाएगा दिवाली

राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर ब्रिटेन में उत्साह उफान पर, 22 जनवरी को इंग्लैंड भी मनाएगा दिवाली

by Rashmi Singh

लंदन। अयोध्या में श्री राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर ब्रिटेन में भी बड़े जश्न की तैयारी हो चुकी है। यूके के 200 से अधिक हिंदू संगठनों ने इस दिन ब्रिटेन में भारत की तरह ही भव्य दिवाली मनाने का निर्णय लिया है। तैयारियां की जा रही हैं। ब्रिटेन के साथ ऑस्ट्रेलिया, नेपाल, अमेरिका, मॉरीशस और इंडोनेशिया भी जश्न मनाएंगे।
अयोध्या में 22 जनवरी को होने वाले श्रीराम मंदिर उद्घाटन और श्रीराम लला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई अन्य देशों में भी जबरदस्त उत्साह देखा जा रहा है। नेपाल से लेकर अमेरिका, इंडोनेशिया, मॉरीशस, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन जैसे देशों में भी इस दिन बड़े जश्न की तैयारी की जा रही है। विदेश में बने हिंदू मंदिरों को भी सजाया-संवारा जा रहा है। ब्रिटेन में भी पीएम मोदी के आह्वान पर 22 जनवरी को दिवाली मनाने की तैयारी चल रही है। बता दें कि ब्रिटेन के 200 से अधिक हिंदू संगठनों ने अयोध्या में 22 जनवरी को होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह का स्वागत किया है।
हिंदू संगठनों ने कहा कि राम मंदिर की भव्य प्राण प्रतिष्ठा एक ‘ऐतिहासिक क्षण’ है , जो अनगिनत भक्तों के समर्पित प्रयासों की लगभग पांच शताब्दियों की परिणति को चिह्नित करेगा। संगठनों ने यहां एक संयुक्त बयान जारी कहा कि उन्हें उम्मीद है कि ब्रिटेन में रहने वाले हिंदू परिवार 22 जनवरी को दिवाली के त्योहार के रूप में भगवान राम की अयोध्या में ‘घर वापसी’ का जश्न मनाएंगे। बयान के मुताबिक, ”हम ब्रिटेन में धार्मिक समुदायों के प्रतिनिधि, 22 जनवरी 2024 को भारत के अयोध्या में श्री राम मंदिर (राम मंदिर) के उद्घाटन समारोह का स्वागत करते हुए प्रसन्न हैं।
पीएम मोदी करेंगे अयोध्या में श्रीराम मंदिर का उद्घाटन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में 22 जनवरी को श्रीराम मंदिर का उद्घाटन करेंगे। इसका लाइव प्रसारण भी भारत समेत दुनिया के कई देशों में देखा जाएगा। भारत ने इस दिन के लिए 55 देशों के प्रतिनिधियों को अयोध्या आने के लिए न्यौता भी भेजा है। अयोध्या में जश्न की सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। घाटों और गलियों को दुल्हन की तरह सजाया गया है। उद्घाटन से पहले ब्रिटेन के हिंदू संगठनों ने अपने बयान में कहा है कि भगवान राम को ‘दुनिया भर में धार्मिक परंपराओं के अवतार’ के रूप में मान्यता दी जाती है और वह ‘हिंदू/भारतीय सभ्यता’ के एक स्थायी प्रतीक हैं। ​(भाषा)

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.