City Headlines

Home » UP : मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में फर्जीवाड़ा करने वाला अधिकारी निलंबित

UP : मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में फर्जीवाड़ा करने वाला अधिकारी निलंबित

मंत्री के निर्देश पर अधिकारी और आठ फर्जी लाभार्थियों पर एफआईआर दर्ज

by Madhurendra
UP, CM, Yogi, Yogi Government, Chief Minister Mass Marriage Scheme, Fraud, Officer, Suspended, Minister, Fake Beneficiary, FIR, Lucknow, Ballia

लखनऊ। जनपद बलिया में 25 जनवरी को हुए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में अपात्रों को लाभ दिए जाने के मामले को समाज कल्याण राज्य मंत्री (स्वतन्त्र प्रभार) असीम अरुण ने गंभीरता से लिया है। समाज कल्याण निदेशक ने जांच के बाद आरोपित सहायक विकास अधिकारी (समाज कल्याण) सुनील कुमार यादव को बुधवार को निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही आरोपित अधिकारी सहित सभी आठ अपात्र लाभार्थियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।
शादीशुदा लोगों को किया गया शामिल
सामूहिक विवाह कार्यक्रम में आरोपित सहायक विकास अधिकारी (समाज कल्याण) सुनील कुमार यादव ने ग्राम पंचायत मानिकपुर से आर्चना, रंजना, सुमन को शामिल करवाया। इसी तरह ग्राम पंचायत सुल्तानपुर से प्रियंका, सोनम, पूजा, सन्जू और रमिता का भी विवाह 25 जनवरी को संपन्न हुआ। इन सभी का सत्यापन आरोपी अधिकारी सुनील कुमार द्वारा किया गया था। जांच के दौरान खुलासा हुआ कि संजू का विवाह तीन वर्ष पहले, जबकि पूजा का विवाह एक वर्ष पूर्व हो चूका है। इसके अतिरिक्त अर्चना, रंजना, सुमन, रमिता और प्रियंका का विवाह वर्ष 2023 में हो चुका है।
अविवाहित को बना दिया लाभार्थी
जांच में सामने आया कि सोनम का अभी विवाह तय ही नहीं हुआ है। इसके बावजूद उसे लाभार्थी के रूप में शामिल कर लिया गया है। जिलाधिकारी के निर्देश पर हुई जांच में इसका खुलासा होने के बाद सभी नौ आरोपितों के खिलाफ 30 जनवरी को सभी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई गयी है। समाज कल्याण विभाग के मंत्री असीम अरुण ने प्रशासनिक जांच और एफआईआर की जांच दोनों में त्वरित कार्यवाही करने का निर्देश दिया है।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.