City Headlines

Home » कंजक्टिवाइटिस हो तो आंखों को छुएं या रगड़ें नहीं: डा. अरूण शर्मा

कंजक्टिवाइटिस हो तो आंखों को छुएं या रगड़ें नहीं: डा. अरूण शर्मा

by Sanjeev

लखनऊ । कंजक्टिवाइटिस होने पर अपनी आँखों को छुएं या रगड़ें नहीं। इससे स्थिति खराब हो सकती है यह आपकी दूसरी आंख तक फैल सकती है। यह जानकारी किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के नेत्र रोग विभाग के डा. अरूण शर्मा ने दी।
डा. अरूण शर्मा ने बताया कि कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग तब तक न करें जब तक कि आपका नेत्र चिकित्सक यह न कहे कि इन्हें दोबारा पहनना शुरू करना ठीक है। इसके अलावा तकिए, वॉशक्लॉथ, तौलिये, आई ड्रॉप, आंख या चेहरे का मेकअप, मेकअप ब्रश, कॉन्टैक्ट लेंस, कॉन्टैक्ट लेंस स्टोरेज केस या चश्मा जैसी निजी वस्तुएं साझा न करें। उपचार के लिए हमेशा किसी नेत्र विशेषज्ञ से परामर्श लें।
कंजक्टिवाइटिस से बचाव
कंजक्टिवाइटिस से बचाव के लिए अपने हाथों को अक्सर साबुन और गर्म पानी से कम से कम 20 सेकेंड तक धोएं। यदि साबुन और गर्म पानी उपलब्ध नहीं है, तो अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करें।
किसी संक्रमित व्यक्ति या उसके द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्तुओं के संपर्क में आने के बाद अपने हाथ धोएं।
क्या न करें
बिना धोए हाथों से अपनी आंखों को छूने से बचें।
किसी संक्रमित व्यक्ति द्वारा उपयोग की गई वस्तुओं को साझा न करें, उदाहरण के लिए तकिए, वॉशक्लॉथ, तौलिये, आई ड्रॉप, आंख या चेहरे का मेकअप, मेकअप ब्रश, कॉन्टैक्ट लेंस, कॉन्टैक्ट लेंस स्टोरेज केस या चश्मा साझा न करें।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.