City Headlines

Home » अडानी डिफेंस कानपुर में लगाएगा दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा कारखाना

अडानी डिफेंस कानपुर में लगाएगा दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा कारखाना

भारतीय और वैश्विक बाजारों के लिए तैयार होगी गोला-बारूद की पूरी शृंखला, उप्र के रक्षा औद्योगिक गलियारे में 1,500 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश

by Sanjeev

नई दिल्ली । भारतीय और वैश्विक बाजारों के लिए गोला-बारूद की पूरी शृंखला बनाने के लिए अडानी डिफेंस दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा कारखाना कानपुर में लगाएगा। अडानी डिफेंस डीआरडीओ के साथ लंबी दूरी के निर्देशित बम, लंबी दूरी की एंटी-रेडिएशन मिसाइल और अत्यधिक घातक समुद्री-स्किमिंग एंटी-शिप मिसाइलों जैसी महत्वपूर्ण मिसाइल प्रणालियों पर भी काम कर रहा है।
अडानी डिफेंस ने 2022-23 की अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा है कि हम राष्ट्रीय महत्व की बड़ी और जटिल परियोजनाओं को पूरा करने के लिए अडानी समूह की ताकत और प्रत्येक में समय से पहले सोचने की एक सहज क्षमता का निर्माण करते हैं। समूह की मुख्य शक्तियों को राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंडे के साथ जोड़ते हुए अडानी डिफेंस एंड एयरोस्पेस ने अपने मिशन और रोडमैप को राष्ट्रीय आवश्यकताओं के अनुरूप बनाया है। साथ ही भारत के लिए रणनीतिक महत्व की प्रौद्योगिकियों और प्लेटफार्मों को प्राथमिकता देने के लिए युद्ध के भविष्य का आकलन किया।
अडानी डिफेंस ने घोषणा की है कि उत्तर प्रदेश के रक्षा औद्योगिक गलियारा में 1,500 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करके कानपुर में दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा एकीकृत गोला-बारूद बनाने का कारखाना लगाया जाएगा। यह कॉम्प्लेक्स भारतीय और वैश्विक बाजारों के लिए गोला-बारूद की पूरी शृंखला पेश करेगा, जिसमें छोटे कैलिबर गोला-बारूद के 200 मिलियन राउंड, मध्यम कैलिबर गोला-बारूद के 10 मिलियन राउंड और 155 मिमी बड़े कैलिबर गोला-बारूद के लिए एक लाख राउंड का निर्माण करने किये जाने की योजना है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अडानी डिफेंस पहली निजी क्षेत्र की कंपनी है, जिसने असॉल्ट राइफल, लाइट मशीन गन, स्नाइपर राइफल, कार्बाइन और पिस्तौल सहित छोटे हथियारों के संपूर्ण विकास और विनिर्माण पारिस्थितिकी तंत्र की स्थापना की है। यह सुरक्षा बलों को छोटे हथियारों की आपूर्ति करने वाली एकमात्र भारतीय निजी क्षेत्र की कंपनी है। कंपनी का रक्षा पोर्टफोलियो भूमि, वायु और नौसैनिक सीमाओं पर खुफिया जानकारी, निगरानी और टोही को प्राथमिकता देता है, जिसके लिए भविष्य में मानव रहित, साइबर और उपग्रह अंतरिक्ष में प्रौद्योगिकी उत्पादन क्षमताओं का निर्माण आवश्यक है।
अडानी रक्षा और एयरोस्पेस कंपनी ने हैदराबाद और बेंगलुरु में एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र के माध्यम से मानव रहित प्रौद्योगिकियों के विकास का बीड़ा उठाया है, जिससे भारत को मानव रहित क्षेत्र में वैश्विक मानचित्र पर स्थान मिला। कंपनी ने भारत में मानव रहित प्रणालियों के आत्मनिर्भर डिजाइन और विकास के लिए भारतीय आपूर्तिकर्ताओं के पारिस्थितिकी तंत्र में एक व्यापक पेशकश विकसित की। साथ ही कंपनी महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों और प्लेटफार्मों, निर्माण में निवेश कर रही है। कंपनी के पास विश्व स्तर पर स्वीकृत प्रक्रियाओं, वर्कफ़्लो, गुणवत्ता प्रबंधन और शून्य दोष समय पर डिलीवरी करने की क्षमता है।
वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक अडानी डिफेंस डीआरडीओ के साथ लंबी दूरी के निर्देशित बम, लंबी दूरी की एंटी-रेडिएशन मिसाइल और अत्यधिक घातक समुद्री-स्किमिंग एंटी-शिप मिसाइलों जैसी महत्वपूर्ण मिसाइल प्रणालियों पर भी काम कर रहा है। अडानी डिफेंस और डीआरडीओ के सहयोग से विकसित सटीक निर्देशित मिसाइल प्रणाली इस बात का प्रमाण है कि सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की साझेदारी रक्षा निर्माण में क्रांति ला सकती है। अत्यंत कम दूरी की वायु रक्षा के लिए महत्वपूर्ण मिशन ने उड़ान परीक्षण पूरा कर लिया है, जिसका उत्पादन वित्त वर्ष 2023-24 में शुरू होने की उम्मीद है।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.