City Headlines

Home » राजस्थान में लाल डायरी को लेकर हलचल, शक के घेरे में आये धर्मेंद्र राठौड़ का सीएम आवास पर पैर टूटा

राजस्थान में लाल डायरी को लेकर हलचल, शक के घेरे में आये धर्मेंद्र राठौड़ का सीएम आवास पर पैर टूटा

by Sanjeev
Jaipur, CM, Gehlot, electricity, free electricity, consumer, unit, duty waived, Congress

जयपुर। राजस्थान की राजनीति में एक लाल डायरी ने हलचल मचा रखी है। इसी ‘लाल डायरी’ मामले में नया मोड़ आ गया है। यह डायरी जिनके घर पर मिली थी, अब उनका पैर टूट गया है। और जब उनका पैर टूटा वह मुख्यमंत्री आवास पर ही थे मौजूद थे। जयपुर के एसएमएस अस्पताल से वीडियो सामने आया है जिसमें धर्मेंद्र राठौड़ के पैर में प्लास्टर चढ़ा दिख रहा है।
आरटीडीसी चैयरमैन धर्मेंद्र राठौड़ का पैर टूटा
राजस्थान में इस समय लाल डायरी चर्चा का अहम विषय बनी हुई है और इसकी वजह बने हैं गहलोत सरकार से बर्खास्त मंत्री राजेंद्र सिंह गुढ़ा। राजेंद्र सिंह को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 22 जुलाई शुक्रवार को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया था। राजेंद्र गुढ़ा सोमवार को सदन में एक लाल डायरी विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष पेश करना चाहते थे। गुढ़ा ने कहा कि लाल डायरी में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार के वित्तीय लेनदेन का विवरण है। उन्होंने कहा कि मुझसे वो लाल डायरी छीन ली गई, जिसमें बहुत से काले सच छिपे हैं।
लाल डायरी प्रकरण में धर्मेंद्र राठौड़ का नाम
इस बीच लाल डायरी मामले में नया मोड़ आ गया है। जिनके घर पर यह डायरी मिली है वो सीएम अशोक गहलोत के करीबी धर्मेंद्र राठौड़ का घर है। अब उन्हीं आरटीडीसी चैयरमैन धर्मेंद्र राठौड़ के पैर में फ्रैक्चर हुआ है जिसके बाद वह एसएमएस अस्पताल के ट्रामा सेंटर पहुंचे हैं। अस्पताल से वीडियो सामने आया है जिसमें धर्मेंद्र राठौड़ के पैर में प्लास्टर चढ़ा दिख रहा है। बता दें कि दुर्घटना के समय राठौड़ मुख्यमंत्री आवास पर ही मौजूद थे। लाल डायरी प्रकरण में धर्मेंद्र राठौड़ का नाम अहम है।
धर्मेंद्र राठौड़ रहने वाले जयपुर के ही हैं लेकिन राजनीतिक रूप से अलवर जिले में सक्रिय रहे हैं। उन्होंने दो बार अलवर की बानसूर सीट से विधानसभा चुनाव का टिकट मांगा लेकिन मिला नहीं। वह अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य भी हैं और गहलोत सरकार के पिछले कार्यकाल में राजस्थान राज्य बीज निगम के चेयरमैन थे। अशोक गहलोत के बहुत करीबी लोगों में से एक हैं और होटल वगैरह का काम करते हैं। बताया जाता है कि पूर्वी राजस्थान की राजनीति में गहलोत के बड़े मददगार हैं।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.