City Headlines

Home » बिहार: जीतन राम की धमकी काम आई, महागठबंधन सरकार में शामिल सभी छह दलों की बनेगी कोऑर्डिनेशन कमेटी

बिहार: जीतन राम की धमकी काम आई, महागठबंधन सरकार में शामिल सभी छह दलों की बनेगी कोऑर्डिनेशन कमेटी

by Madhurendra
Nitish Kumar, CM, Bihar, JDU, Varanasi, UP, Election Bugle, PM, Narendra Modi, Parliamentary Constituency, Chief Minister, Nitish, Lok Sabha Elections

पटना। पूर्व मुख्यमंत्री तथा हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) पार्टी के सुप्रीमो जीतन राम मांझी ने कुछ दिन पहले राजगीर में आयोजित अपनी पार्टी के कार्यक्रम में इस बात की घोषणा की थी कि अगर उनकी मांगों पर विचार नहीं किया गया तो वह महागठबंधन से अपना नाता तोड़ सकते हैं। मांझी के इस कदम का असर यह हुआ कि लंबे समय से महागठबंधन में कोऑर्डिनेशन कमेटी का गठन किए जाने पर सभी दलों में सहमति बन गई है।

महागठबंधन के घटक दलों की बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि जल्दी ही कोआर्डिनेशन कमेटी का गठन किया जाएगा। बैठक में ये भी सहमति बनी कि कोआर्डिनेशन कमेटी त्रिस्तरीय होगी, यानी राज्य के लिए अलग कोआर्डिनेशन कमेटी होगी जिला के लिए अलग और प्रखंड के लिए अलग कमेटी का गठन किया जाएगा।

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी जब से महागठबंधन सरकार के अंग बने हैं तभी से वह कोआर्डिनेशन कमेटी बनाए जाने की मांग करते रहे थे। ध्यान रहे कि जीतन राम मांझी कई बार ये कह चुके थे कि महागठबंधन जरूर बन गया है। मांझी बार-बार यह कहते रहे हैं कि सरकार में शामिल घटक दलों के बीच आपसी सामंजस्य नहीं है। यही वजह है कि घटक दलों के नेता एक-दूसरे के खिलाफ भी कभी-कभी बया बाजी कर देते हैं, जिससे नुकसान महागठबंधन को उठाना पड़ता है।

जीतन राम मांझी का कहना था कि ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए एक कोआर्डिनेशन कमेटी बनाई जाए। उन्होंने कहा था कि उसमें कोई भी फैसला सर्वसम्मति से लिया जाए। महागठबंधन में कोआर्डिनेशन कमेटी न बनाए जाने से जीतन राम मांझी इतने नाराज थे कि उन्होंने महागठबंधन सरकार से अलग होने का भी इशारा दे दिया था। ऐसा करने के पीछे महागठबंधन के घटक दलों की मंशा यह है कि प्रखंड स्तर तक कोआर्डिनेशन कमेटी बनाए जाने से निचले स्तर के कार्यकर्ताओं में भी जोश भरा जा सकेगा।
पहले भी जता चुके हैं विरोध
जीतन राम मांझी ने नीतीश कुमार की ओर से तेजस्वी यादव को विरासत सौंपने की बात का भी विरोध किया था। जीतन राम मांझी ने कहा था कि ये महागठबंधन की सरकार है, इसमें भविष्य में किसे मुख्यमंत्री बनाना है इसका फैसला कोई एक पार्टी नहीं बल्कि सर्वसम्मति से होना चाहिए। हाल के कुछ महीनों में उन्होंने अपने बेटे को मुख्यमंत्री बनाने की मांग तक नीतीश कुमार से की थी। जीतन राम मांझी ने कहा कि अगर उनका बेटा मुख्यमंत्री बनता है तो यह बिहार के लिए काफी अच्छा होगा।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.