City Headlines

Home » असद के जनाजे में शामिल नहीं हो पाएगा अतीक , नहीं मिली अनुमति, मामा लेने जायेंगे शव

असद के जनाजे में शामिल नहीं हो पाएगा अतीक , नहीं मिली अनुमति, मामा लेने जायेंगे शव

शूटर गुलाम के जनाजे में शामिल नहीं होगा परिवार, मां-भाई का शव लेने से इनकार

by Sanjeev

प्रयागराज। कानूनी पेचीदगियों की वजह से माफिया अतीक अहमद अपने बेटे असद की अंतिम यात्रा में शामिल नहीं हो पाएगा। उसको बेटे असद के जनाजे में जाने की अनुमति नहीं मिल सकी है। एनकाउंटर का समाचार उस समय मिला जब वह कोर्ट रूम में मौजूद था। इसी समय झांसी में असद और गुलाम हसन का एनकाउंटर किया गया।
कोर्ट रूम से बाहर निकलने के बाद अशरफ ने अतीक को असद और गुलाम का एनकाउंटर किए जाने की बात बताई तो माफिया कुछ देर के लिए बदहवास हो गया। इस दौरान उसने यह भी कहा कि यह सब मेरे कारण ही हुआ है। मेरे कामों की सजा मेरे बेटे को मिली है। इसके बाद उसने अपने वकील के माध्यम से कोर्ट से बेटे के जनाजे में जाने की अनुमति मांगी। जिसे कोर्ट ने नामंजूर कर दिया।
दरअसल माफिया अतीक अहमद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर साबरमती जेल में बंद है। उमेश पाल हत्याकांड में आरोपी होने के चलते उसे सीजेएम ने उसे कोर्ट के सामने पेश करने का आदेश जारी किया था, जिसके अनुपालन में उसे कोर्ट में बृहस्पतिवार को पेश किया गया। असद के शव पर मां या बाप ही दावा कर सकते हैं, लेकिन दोनों इस समय मौजूद नहीं है। माफिया अतीक अहमद जहां जेल में बंद है वहीं असद की मां शाइस्ता परवीन फरार चल रही है। असद अहमद के एनकाउंटर के बाद अतीक की सास और ससुर झांसी जाएंगें। यहां से वे पुलिस एनकाउंटर में मारे गए अतीक अहमद के बेटे असद का शव लेंगे। असद का शव लेने के लिए उसके एक मामा भी झांसी जाएंगें। उसके शव को झांसी से प्रयागराज लाया जाएगा और वहीं उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा।
उधर असद के साथ एनकाउंटर में मारे गए गुलाम हसन का शव उसके भाई राहिल हसन ने लेने से इनकार कर दिया है। गुलाम हसन अतीक का खास शूटर था और उस पर पांच लाख रुपये का इनाम घोषित था। उसने उमेश पाल पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई थीं। इसके बाद वर फरार हो गया था। उसके मेहंदौरी रसूलाबाद स्थित पुश्तैनी मकान को गत दिनों पीडीए ने बुलडोजर से ध्वस्त कर दिया था।
गुलाम हसन का बड़ा भाई राहिल हसन भाजपा से जुड़ा था और भाजपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ का जिलाध्यक्ष था। गुलाम का नाम उमेश पाल हत्याकांड में सामने आने के बाद भाजपा ने उसे पद से हटा दिया था। राहिल हसन ने पहले भी कहा था कि यदि गुलाम का एनकाउंटर होता है तो वह उसकी लाश को नहीं लेगा। बृहस्पतिवार को जब गुलाम मुठभेड़ में मारा गया तो राहिल हसन ने फिर वही बात दोहराई और कहा कि उसका भाई गुलाम अपराधी था। इसलिए वह उसका शव नहीं लेगा।
उसने हमारे परिवार की छवि को पूरे समाज में नष्ट कर दिया। इससे उनकी काफी बदनामी हुई है। उसके चलते ही हमारा मकान ध्वस्त हो गया और हमारी बूढी मां का रो-रोकर बुरा हाल है। मां हम सभी भाइयों को हमेशा ईमानदारी और नेक रास्ते पर चलने की सलाह देती थी, लेकिन उस पर इसका कोई असर नहीं हुआ और इसका परिणाम आज सामने है।
माफिया अतीक अहमद के बेटे असद अहमद के एनकाउंटर के बाद उसकी सास और ससुर झांसी जाएंगें। यहां से वे पुलिस एनकाउंटर में मारे गए अतीक अहमद के बेटे असद का शव लेंगे। असद का शव लेने के लिए उसके एक मामा भी झांसी जाएंगें। उसके शव को झांसी से प्रयागराज लाया जाएगा और वहीं उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा।
असद के साथ था शूटर गुलाम
बता दें कि उमेश पाल हत्याकांड में यूपी एसटीएफ ने बड़ी कार्रवाई करते हुए झांसी में अतीक अहमद के फरार बेटे असद अहमद को एनकाउंटर में ढेर कर दिया। असद के साथ शूटर गुलाम मोहम्मद को भी एसटीएफ ने मार गिराय। एसटीएफ को असद के झांसी में होने की जानकारी मिली थी, जिसके बाद टीम उसकी तलाश में झांसी पहुंची। एसटीएफ की टीम जब असद की घेराबंदी कर रही थी, उस समय उसके साथ शूटर गुलाम मोहम्मद भी मौजूद था। शूटर गुलाम भी उमेश पाल हत्याकांड में शामिल था। गुलाम अतीक अहमद का बेहद करीबी था और अतीक के कई काले कारनामों में शामिल भी रहा है।
उमेश पाल हत्याकांड में शामिल गुलाम के कई सीसीटीवी फुटेज भी सामने आये थे, जिसके बाद पुलिस ने उसकी छानबीन तेज कर दी थी। इनके ऊपर पुलिस की ओर से 5-5 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया था। पिछले दिनों यूपी एसटीएफ इनकी तलाश में दिल्ली भी पहुंची थी, जिसके बाद उनकी लोकेशन झांसी में होने की सूचना मिली थी।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.