City Headlines

Home » चम्पत राय ने कहा, सांस्कृतिक एकरूपता हमारे देश की अदृश्य डोर

चम्पत राय ने कहा, सांस्कृतिक एकरूपता हमारे देश की अदृश्य डोर

‘सांस्कृतिक एकरूपता’ पर व्याख्यान आयोजित

by Madhurendra
Champat Rai, Cultural Homogeneity, Country, Invisible String, Lecture, Organized

प्रयागराज। सांस्कृतिक एकरूपता हमारे देश की वह अदृश्य डोर है, जो वैविध्यपूर्णता लिए समूचे राष्ट्र को सनातन कल से बांधे चली आ रही है और अनंत काल तक बांधे रखने में समर्थ है। जहां भिन्न-भिन्न धर्म, जाति, भाषा, बोली के लोग अपने-अपने सौन्दर्य के साथ इस समूचे राष्ट्र की गौरवशाली थाती हैं। जो अंदर कहीं किसी अपनेपन के धागे से बंधे हुए हैं और यह धागा निश्चित रूप से हमारी सांस्कृतिक एकरूपता का ही है।
उक्त विचार श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास अयोध्या के महामंत्री चम्पत राय ने शनिवार को अखिल भारतीय सांस्कृतिक संगठन “संस्कार भारती“ के संस्थापक संरक्षक पद्मश्री कलाऋषि बाबा योगेन्द्र की स्मृति में संस्कार भारती प्रयागराज द्वारा आयोजित “सांस्कृतिक एकरूपता“ पर आयोजित व्याख्यान में व्यक्त किया।
बाबा योगेन्द्र के जन्मदिवस पर हिन्दुस्तान एकेडमी के सभागार में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि प्रतिष्ठित लोकगायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने दीप प्रज्ज्वलित कर एवं बाबा के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। मालिनी अवस्थी ने बाबा योगेन्द्र को याद करते हुए उन्हें कला-कलाकारों का मसीहा बताया। उन्होंने कहा कि ऐसे कलाऋषि वर्षों में एक होते हैं।
संस्कार भारती काशी प्रांत के अध्यक्ष डॉ. गणेश प्रसाद अवस्थी ने समस्त अतिथियों का स्वागत किया। इससे पूर्व अतिथियों को अंगवस्त्रम एवं स्मृति-चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया। प्रयागराज के अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार मिश्र ने अध्यक्षता की तथा संचालन डॉ. प्रदीप भटनागर ने किया। प्रयागराज इकाई की महामंत्री डॉ. ज्योति मिश्रा ने अतिथियों के प्रति आभार किया। कार्यक्रम का आरंभ रंजना त्रिपाठी ने ध्येय गीत एवं समापन वंदेमातरम के गायन से हुआ।
इस अवसर पर संगठन मंत्री उत्तर प्रदेश गिरिश, क्षेत्र संयोजक देवेन्द्र त्रिपाठी, दीपक शर्मा संगठन मंत्री काशी प्रांत, सुशील राय कार्यक्रम संयोजक, प्रयागराज इकाई की उपाध्यक्ष प्रेमलता मिश्रा, विश्वज्योति सहाय, सह महामंत्री पंकज गौड़, मंत्री मनीष कुमार तिवारी, कोषाध्यक्ष शम्भूनाथ श्रीवास्तव, चित्रकला संयोजक रवीन्द्र कुशवाह, नाट्य संयोजक डॉ. अशोक शुक्ला, पुरातन कला संयोजक रंजन शुक्ला, पूनम सिंह, गीतकार शैलेन्द्र मधुर, कवियत्री डॉ. आभा मधुर, संजय पुरूषार्थी सहित अनेक लोग उपस्थित रहे।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.