City Headlines

Home » श्रद्धा की हत्या में प्रयोग हथियार बरामद

श्रद्धा की हत्या में प्रयोग हथियार बरामद

जांच के लिए CFSL भेजा गया

by City Headline
Murder, Delhi Police, DNA, Report, Shraddha, Aftab, Father, Brother, Shraddha Murder Case, Bones and Hair, DNA Mitochondrial Profiling, Center for DNA Fingerprinting and Diagnostics, CDFD, Hyderabad

नई दिल्ली। दिल्ली के महरौली में हुए श्रद्धा हत्याकांड मामले में दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस ने श्रद्धा की हत्या में इस्तेमाल किए जाने वाले हथियार को बरामद कर लिया है। हथियार की बरामदगी के साथ ही पुलिस ने इस हथियार को सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरीए (CFSL) में जांच के लिए भेज दिया है। श्रद्धा वालकर की हत्या में किस प्रकार का हथियार प्रयोग में लाया गया है अभी इस बाबत कोई पुष्ट जानकारी उपलब्ध नही हो सकी है।इसी के साथ पुलिस ने एक अंगूठी भी बरामद की है, जो अंगूठी श्रद्धा की है। सूत्रों के अनुसार, आफताब ने श्रद्धा की हत्या के बाद ये अंगूठी अपनी एक और प्रेमिका को गिफ्ट कर दी थी, जो कि पेशे से साइकोलॉजिस्ट थी।
इस हत्याकांड को सुर्खियों में आए 15 दिन से ज्यादा का समय हो गया है, लेकिन पुलिस के हाथ वो हथियार नहीं लग सका था, जिससे आरोपित हत्यारे आफताब पूनावाला ने श्रद्धा की हत्या की थी। आफताब, श्रद्धा का बॉयफ्रैंड था और उसके कबूलनामे के मुताबिक, उसी ने श्रद्धा की हत्या करने के बाद उसके 35 टुकड़े किए थे। इस भयंकर हत्याकांड के बाद आए दिन आफताब नए खुलासे करता रहा है। हालांकि, पुलिस को उसकी बातों पर संदेह हो रहा था। जिस तरह की जानकारी आफताब दे रहा था, उससे पुलिस को लगा कि वो उन्हें भ्रमित कर जांच को भटकाने की कोशिश में है।
ऐसे में पुलिस ने आफताब के नार्को और पॉलीग्राफी टेस्ट की इजाजत मांगी। इजाजत मिलने के बाद आफताब के नार्को टेस्ट की प्रक्रिया जारी है। इसी बीच पुलिस को वो अहम सबूत मिल गए हैं, जिससे इस केस में अहम माना जा सकता है।
श्रद्धा हत्या मामले में आरोपित आफताब की चौथे चरण की पॉलीग्राफ जांच हुई। इसके बाद ही नार्को टेस्ट पांच दिसंबर को हो सकता है। सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि रोहिणी में स्थित फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (एफएसएल) में सोमवार और मंगलवार को पॉलीग्राफ जांच के दो सत्र होंगे। पूनावाला पहले ही पॉलीग्राफ जांच के तीन सत्रों से गुजर चुका है। पॉलीग्राफ जांच को लाई डिटेक्टर टेस्ट के रूप में भी जाना जाता है। पॉलीग्राफ जांच में रक्तचाप, नब्ज और सांस की दर जैसी शारीरिक गतिविधियों को रिकॉर्ड किया जाता है और इन आंकड़ों का इस्तेमाल यह पता लगाने में किया जाता है कि व्यक्ति सच बोल रहा है या नहीं।
उल्लेखनीय है कि मुंबई निवासी श्रद्ध वालकर (27) की कथित तौर लिव-इन-पार्टनर पूनावाला ने गला घोंटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद उसने शव के 35 टुकड़े करके उन्हें करीब तीन सप्ताह तक दक्षिणी दिल्ली के महरौली में स्थित अपने घर में 300 लीटर के फ्रिज में रखे रखा और फिर एक-एक करके वे टुकड़े फेंकता रहा। पुलिस ने 12 नवंबर को पूनावाला को गिरफ्तार करके पुलिस हिरासत में भेज दिया था। 17 नवंबर को उसकी हिरासत पांच दिन के लिए बढ़ा दी गई। मंगलवार को उसे चार और दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया था। शनिवार को दिल्ली की एक अदालत ने पूनावाला को 13 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.