City Headlines

Home » महबूबा मुफ्ती ने साधा BJP पर निशाना, कहा- मस्जिदों में लाउडस्पीकर बंद कराना उनके एजेंडे का हिस्सा

महबूबा मुफ्ती ने साधा BJP पर निशाना, कहा- मस्जिदों में लाउडस्पीकर बंद कराना उनके एजेंडे का हिस्सा

by

यूपी समेत देश के कुछ हिस्सों में धार्मिक स्थलों से अवैध लाउडस्पीकरों (Loudspeakers) को बंद कराने को लेकर सियासी पारा चढ़ा हुआ है. उत्तर प्रदेश में करीब 22 हजार से अधिक ऐसे लाउडस्पीकर हटाए गए हैं. इस बीच जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी की प्रमुख महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने शुक्रवार को इस मामले में बीजेपी (BJP) पर निशाना साधा है. उन्होंने इस दौरान बीजेपी पर एजेंडे की राजनीति करने का आरोप लगाया है.

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को कहा है, ‘हमारा देश धर्मनिरपेक्षता की नींव पर आधारित है. धर्मनिरपेक्षता हमारे डीएनए में है. बीजेपी धर्मनिरपेक्षता के ताने-बाने को तोड़ने की कोशिश कर रही है लेकिन डीएनए तो फिर भी बचा ही रहेगा. जहां तक मस्जिदों में लाउडस्पीकर बंद करने का सवाल है, यह उनके उसी एजेंडे का हिस्सा है.’

मुसलमानों के मामले में भी साधा था निशाना

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने मुसलमानों के खिलाफ हिंसा पर चुप्पी साधे रखने के लिए प्रधानमंत्री पर भी पिछले दिनों निशाना साधा था. उन्होंने आरोप लगाया था कि मुसलमानों की आजीविका, उनके घरों और उनकी गरिमा को दिल्ली के जहांगीरपुरी में प्रधानमंत्री आवास के ठीक पास बुलडोजर से ढहाया जा जा रहा है, लेकिन पीएम इसके बारे में कुछ नहीं कर रहे हैं.

‘अल्पसंख्यक मुस्लिम बहुत डरे हुए हैं’

महबूबा ने कहा था कि एक मुस्लिम बहुल राज्य के तौर पर जम्मू-कश्मीर धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों के आधार पर भारत में शामिल हुआ था. उन्होंने कहा था, हमने सोचा था कि हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई एक साथ रहेंगे. लेकिन अब ऐसा नहीं हो रहा है. देश में सबसे बड़े अल्पसंख्यक मुस्लिम बहुत डरे हुए हैं.

हिजाब मामले पर भी किया था हमला

इससे पहले हिजाब पर प्रतिबंध को लेकर भी महबूबा मुफ्ती प्रतिक्रिया दे चुकी हैं. हाल ही में जम्मू कश्मीर के बारामूला जिले के एक स्कूल की ओर से आदेश जारी किया गया था कि कर्मचारी ड्यूटी के दौरान हिजाब ना पहनें. इस पर विवाद बढ़ने और सोशल मीडिया पर ये आदेश वायरल होने के बाद इसमें हिजाब की जगह नकाब शब्द का इस्तेमाल कर दिया गया था. महबूबा मुफ्ती ने इस आदेश की कड़ी निंदा की थी.

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर कहा था, ‘मैं हिजाब पर फरमान जारी करने वाले इस पत्र की निंदा करती हूं. जम्मू-कश्मीर पर बीजेपी का शासन हो सकता है लेकिन निश्चित तौर पर यह अन्य राज्यों की तरह नहीं है, जहां उन्होंने अल्पसंख्यकों के घर गिरा दिए और उन्हें अपने मर्जी की पोशाक पहनने की अनुमति नहीं दी.’ वहीं नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा था कि यह राजनीतिक लाभ लेने का प्रयास है.

Leave a Comment

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.

Generated by Feedzy