City Headlines

Home » लोकसभा चुनाव: एक विचार… जब केदारघाटी में हेलिकॉप्टर आते ही लोगों की धड़कनें तेज हो गई थीं… घरों में बच्चे आशंकित होकर छिप गए थे।

लोकसभा चुनाव: एक विचार… जब केदारघाटी में हेलिकॉप्टर आते ही लोगों की धड़कनें तेज हो गई थीं… घरों में बच्चे आशंकित होकर छिप गए थे।

केदारघाटी के आसमान में घमंडपूर्ण गर्जना के साथ हेलिकॉप्टर उड़ता हुआ दिखाई दिया तो स्थानीय लोगों ने चौंक कर उनकी ओर देखा। हेलिकॉप्टर को धूल के बादलों के बीच से गुज़रते देख कई लोग भागने लगे और कुछ दूर से ही उसे देखते रहे। वहीं, क्षेत्र के बच्चे डर के कारण अपने घरों में ही छिप गए।

by Nikhil

यद्यपि, 1975 में अविभाजित उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, लेकिन हेमवती नंदन बहुगुणा ने एक कार्यक्रम के लिए ऊखीमठ पहुंचा था। इस दौरान, उनका हेलीकॉप्टर स्कूल के मैदान में उतरा था। स्कूल के किनारे तैयार किए गए और तुन के पेड़ों की लॉपिंग के साथ हेलीकॉप्टर को सकुशलता से लैंड किया गया था।

यह एक पहला मौका था, जब केदारघाटी में हेलीकॉप्टर उतरा था। पूर्व ब्लॉक प्रमुख और राज्य आंदोलनकारी लक्ष्मी प्रसाद भट्ट ने बताया कि बहुगुणा को देखने के लिए हजारों लोग पहुंचे थे। हेलीकॉप्टर के उतरने पर, लोगों में अफरा-तफरी मच गई और कुछ दूर से ही उसे देखने लगे।

कुछ समय तक लोग हेलीकॉप्टर को देखते रहे, जबकि बाद में बहुगुणा ने उन्हें हेलीकॉप्टर के बारे में बताया और उन्हें डरने की सलाह नहीं दी। वह कहा कि हेलीकॉप्टर एक उदाहरण है और इससे एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाना आसान हो जाता है।

केदारघाटी के बाद, बहुगुणा सीधे ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ पहुंचीं, जहां उन्होंने प्रधान चौक पर सभा को संबोधित किया और क्षेत्र में स्कूल, सड़क, और स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा के लिए जनता से वादे किए। वहां पहुंचने के बाद, उन्होंने बचपन और स्कूली जीवन की यादें भी शेयर की।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.