City Headlines

Home » राजभर के विधायक बेदी राम को पेपर लीक मामले में एक और गंभीर खुलासा का सामना करना पड़ा है।

राजभर के विधायक बेदी राम को पेपर लीक मामले में एक और गंभीर खुलासा का सामना करना पड़ा है।

by Nikhil

जौनपुर जिले में पेपर लीक मामले में सुभाषपा विधायक बेदी राम के खिलाफ एक नए खुलासे का सामना हो रहा है। उनकी हिस्ट्रीशीटर जलालपुर थाने में 17A पर दर्ज है और इसमें उनके अपराधों की एक विस्तृत कथन भी शामिल है। अजय साहनी, तत्कालीन पुलिस अधीक्षक, ने 2022 में उनकी हिस्ट्रीशीट खोली थी। इसमें उल्लेख है कि विधायक के पास जलालपुर थाने में दो ईंट भट्टे भी हैं।

बेदी राम के नाम पेपर लीक मामले में उजागर होने के बाद, हाल ही में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने सीएम योगी से एक मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक, सीएम योगी ने इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा और उन्हें सख्त वार्ता भी की। हालांकि, अधिकारिक तौर पर इसे एक शिष्टाचारिक मुलाकात बताया गया।

बेदी राम पर पेपर लीक मामलों में गहराई से जांच की जा रही है, जिसके बाद से सपा और कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ बड़े प्रदर्शन किए हैं। हाल ही में सपा के नेता अखिलेश यादव ने एक वीडियो ट्वीट करके सरकार को निशाना साधा है, जबकि कांग्रेस ने बताया कि बेदी राम विधायक बनने से पहले पेपर लीक मामले में जेल में सजा काट चुके हैं। उन्होंने वीडियो के माध्यम से इसे दिखाया कि बेदी राम ने एक अभ्यर्थी को पास कराने के बदले पैसे लिए थे, और अगर पेपर रद्द हुआ तो उन्हें जिम्मेदार नहीं माना गया। इसके अलावा, उनके खिलाफ राजस्थान, मध्य प्रदेश, और उत्तर प्रदेश में कई अन्य पेपर लीक मामले दर्ज हैं, जिसमें पुलिस और रेलवे में भर्ती के लिए परीक्षा के पेपर लीक करने का आरोप है।

2006 में बेदी राम पर रेलवे भर्ती परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक करने के आरोप में गैंगस्टर एक्ट लगा दिया गया था। इसके बाद दो साल बाद एक और मामला लखनऊ के गोमती नगर में दर्ज किया गया। 2010 में बेदी राम के खिलाफ जौनपुर के मड़ियाहूं में पुलिस भर्ती परीक्षा का पेपर लीक करने के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई थी। इसके बाद 2014 में एक और मामला दर्ज किया गया था।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.