City Headlines

Home » यूपी के एडेड स्कूलों के लिए एक बड़ा बदलाव आने वाला है, जिसमें ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से उन्हें जोड़ा जाएगा। इस प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है।

यूपी के एडेड स्कूलों के लिए एक बड़ा बदलाव आने वाला है, जिसमें ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से उन्हें जोड़ा जाएगा। इस प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है।

by Nikhil

उत्तर प्रदेश सरकार ने सहायता प्राप्त विद्यालयों के नया संवर्धन करने का ऐतिहासिक कदम उठाया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में तैयार की गई विस्तृत कार्ययोजना के बाद, इन विद्यालयों को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से जोड़ने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। एक नया मोबाइल ऐप विकसित किया जा रहा है, जिसमें छात्रों और कर्मचारियों के आधार और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी को समेकित किया जाएगा।

इस एप्लिकेशन में जियो-टैगिंग और टीचिंग स्टाफ मॉड्यूल के साथ विभिन्न विशेषताओं से युक्त होगा। समाज कल्याण विभाग ने इसके विकास की जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन लिमिटेड (UPLC) को सौंपी है। उपरोक्त प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए UPLC ने पैनल में शामिल कंपनियों के चयन और कार्य आवंटन की प्रक्रिया शुरू कर दी है और ई-टेंडर के माध्यम से आवेदन मांगे हैं।

एक नयी ऐप डेवलप करने की योजना बन रही है, जिसमें विभिन्न चरणों का पालन किया जा रहा है। पहले, यूपीएलसी द्वारा चुनी गई ऐप विकास सेवा प्रदाता एजेंसी द्वारा विभागीय अधिकारियों से प्राप्त फीडबैक के आधार पर एक प्रोजेक्ट स्टडी तैयार करना होगा। इसके बाद, सहायता प्राप्त विद्यालयों से महत्वपूर्ण डेटा एकत्र किया जाएगा, जिसमें छात्रों के लिए व्यक्तिगत विवरण सहित अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां शामिल होंगी। इस डेटा को सिस्टम रिक्वायरमेंट स्पेसिफिकेशन के अनुसार संकलित कर विस्तृत परियोजना रिपोर्ट और विकास मार्ग प्रस्तुत किया जाएगा।

इस ऐप में एक ऑनलाइन मॉड्यूल-आधारित मोबाइल एप्लिकेशन डेवलप किया जा रहा है, जिससे एक ही प्लेटफ़ॉर्म से 60,000 से अधिक छात्रों की जानकारी को ट्रैक और एक्सेस किया जा सकेगा। इसमें छात्रों की जन्म तिथि, लिंग, संपर्क जानकारी, परिवार के सामाजिक और वित्तीय विवरण, और शैक्षिक रिकॉर्ड शामिल होंगे। इसके अलावा, कर्मचारियों और शिक्षकों के लिए भी समान प्रकार की जानकारी दर्ज की जाएगी।

ऐप अग्रसर बनाने के लिए, स्कूलों के विवरण भी संग्रहीत किए जाएंगे, जैसे की नाम, पूरा पता, प्रबंधनीय जानकारी और अक्षांश-देशांतर निर्देशांक।

इस ऐप में अधिक से अधिक 400 स्कूलों को सहायता प्राप्त करने के लिए लॉगिन और एक्सेस प्रदान किया जाएगा। साथ ही, निदेशालय लॉगिन (एडमिन), आईडी और पासवर्ड प्रबंधन सुविधा होगी, जिससे उपयोगकर्ताओं को उनकी भूमिका अनुसार पहुंच दी जा सकेगी। इसके अलावा, उन्नत सुरक्षा के लिए विभिन्न अनुमतियों का उपयोग, लिस्टिंग, एनालिटिक्स और स्केलेबिलिटी क्षमताएं उपलब्ध होंगी।

कार्यान्वयन एजेंसी भी सुनिश्चित करेगी कि यह ऐप 16 जीबी रैम पर आधारित होस्टिंग सेवा, एक टेराबाइट स्टोरेज, और एक सर्च इंजन के अनुकूलित रूप में विकसित किया जाए।

इसके अतिरिक्त, कंप्यूटर आपातकालीन प्रतिक्रिया टीम (CERT) की सिफारिशों के अनुसार, वार्षिक रखरखाव के लिए और कर्मचारियों को तीन दिनों की आधिकारिक प्रशिक्षण दी जाएगी।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.