City Headlines

Home » यूजीसी ने माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी सहित 157 यूनिवर्सिटीज को डिफॉल्टर घोषित किया है। इस महत्वपूर्ण फैसले का कारण यह है कि ये यूनिवर्सिटीज UGC की मान्यता और निर्देशों के अनुसार आवश्यक डेटा नहीं प्रस्तुत कर पाईं। इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि उनकी व्यवस्था में कुछ गड़बड़ी हो सकती है, जिससे छात्रों को नुकसान हो सकता है।

यूजीसी ने माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी सहित 157 यूनिवर्सिटीज को डिफॉल्टर घोषित किया है। इस महत्वपूर्ण फैसले का कारण यह है कि ये यूनिवर्सिटीज UGC की मान्यता और निर्देशों के अनुसार आवश्यक डेटा नहीं प्रस्तुत कर पाईं। इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि उनकी व्यवस्था में कुछ गड़बड़ी हो सकती है, जिससे छात्रों को नुकसान हो सकता है।

by Nikhil

1. यूनियन ग्रांट कमीशन ने भारत में 157 यूनिवर्सिटीज को डिफॉल्टर घोषित किया है, जिनमें सरकारी और निजी यूनिवर्सिटीज शामिल हैं। यह फैसला उन्होंने इस वजह से लिया है कि ये विश्वविद्यालय लोकपाल की नियुक्ति नहीं कर पाए हैं।

2. यूनियन ग्रांट कमीशन (UGC) ने भारत भर में 157 यूनिवर्सिटीज को डिफॉल्टर घोषित किया है, जिनमें सरकारी, निजी और डीम्ड यूनिवर्सिटीज शामिल हैं। उनके अनुसार, ये विश्वविद्यालय लोकपाल की नियुक्ति नहीं कर पाए हैं, जिसके कारण उन्हें डिफॉल्टर वर्ग में रखा गया है।

3. भारतीय यूनियन ग्रांट कमीशन (UGC) ने 157 विश्वविद्यालयों को डिफॉल्टर घोषित किया है, जिसमें सरकारी, निजी और डीम्ड यूनिवर्सिटीज शामिल हैं। इन विश्वविद्यालयों ने लोकपाल की नियुक्ति नहीं की होने के कारण इस फैसले का सामना कर रहे हैं।

4. इन सूचियों के अनुसार, भारत में कई राज्यों की सरकारी और निजी यूनिवर्सिटीजों को डिफॉल्टर घोषित किया गया है। उदाहरण के लिए, उत्तर प्रदेश में 10 सरकारी और 4 निजी यूनिवर्सिटीज, महाराष्ट्र में 7 सरकारी और 2 निजी यूनिवर्सिटीज शामिल हैं।

5 यूनियन ग्रांट कमीशन ने देशभर में 157 यूनिवर्सिटीज को डिफॉल्टर घोषित किया है, जिसमें सरकारी और निजी यूनिवर्सिटीज शामिल हैं। इनमें से कई राज्यों में कई सरकारी व निजी विश्वविद्यालय हैं, जैसे कि महाराष्ट्र में 7 सरकारी और 2 निजी यूनिवर्सिटीज।

6. भारतीय यूनियन ग्रांट कमीशन द्वारा जारी सूची में दिखाया गया है कि उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात, तमिलनाडु और अन्य राज्यों में कई सरकारी और निजी यूनिवर्सिटीजों को डिफॉल्टर घोषित किया गया है।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.