City Headlines

Home » पंचायत 3 की समीक्षा: डबंगई, राजनीति, और मारधाड़ के साथ कॉमेडी का अद्वितीय जुगलबंदी… लेकिन कुछ चीजों में थोड़ी कमी बच गई है।

पंचायत 3 की समीक्षा: डबंगई, राजनीति, और मारधाड़ के साथ कॉमेडी का अद्वितीय जुगलबंदी… लेकिन कुछ चीजों में थोड़ी कमी बच गई है।

by Nikhil

‘The best replica Rolex watches site in the world only sells the top quality AAA swiss rolex replica watches.

www.watchesexpress.co.uk website sells the best rolex replica watches worldwide, and you can get top quality fake rolex watches at a cheaper price.

Welcome to High Quality replica watches uk Online Store, Buy the Best Replica Watches in the UK.

पंचायत 3′ में दबंगई, रंगबाजी, गांव की सादगी, और प्यार का खास मिलन देखने को मिलता है। यह वेब सीरीज 28 मई को TVF द्वारा ओटीटी प्लेटफॉर्म प्राइम वीडियो पर रिलीज की गई है। पिछले सीजन की तरह, जहां फुलेरा गांव की कहानी ने हमें भावनात्मक अनुभव दिलाया था, वहीं तीसरे सीजन में एक बड़ा सवाल उठाया गया है। इस सीरीज को देखने से पहले, आइए हमारी रिव्यू पढ़ें।

‘पंचायत 3’ को या तो आप इत्तेफाक कह सकते हैं, या फिर ये कह सकते हैं कि यह मेरे घर वालों के लौकी के लिए प्यार है। 27 मई की रात, ऑफिस से लौटते समय मेरे मन में था कि मिडनाइट के बाद ‘पंचायत 3’ देखना है और फिर उसकी समीक्षा करनी है। घर पहुंचा तो वहाँ लौकी की सब्जी बनी थी। और यह लौकी प्रधान जी ने नहीं भिजवाई थी, बल्कि बाजार से लाई गई थी। खैर, मैं अपनी लौकी की कथा पर यहीं फुलस्टॉप लगाता हूं और ‘पंचायत’ की कथा शुरू करता हूं। नहीं तो, प्रल्हाद चा गुंडई पर उतर आएंगे। अब ना तो मैं फुलेरा गांव का नया सचिव हूं और ना मेरे सिर पर रंगबाज विधायक जी का हाथ है, जो मैं प्रल्हाद चा की गुंडई झेल पाऊं। खैर, प्रल्हाद चा की गुंडई देखने में मजा आया।

पिछले सीजन के आखिरी एपिसोड ने सभी को वास्तविक भावनाओं में ले लिया था। प्रल्हाद जी के बेटे राहुल सेना में शहीद हो गए थे, और सचिव जी का ट्रांसफर लेटर भी आ चुका था। ‘पंचायत 3’ उसके आगे की कहानी को बताती है। अब फुलेरा गांव में कुछ बदलाव हुआ है। सचिव जी अपने शहर चले गए हैं, और प्रल्हाद जी बेटे के निधन के कारण टूटे हुए हैं। पंचायत भवन के सामने शहीद राहुल पांडे पुस्तकालय बन गया है। एक ओर, प्रधान जी, विकास और प्रल्हाद चा ट्रांसफर रुकवाने में लगे हुए हैं। दूसरी ओर, गांव में एक नए सचिव का प्रवेश होता है, जिसके सिर पर विधायक जी का हाथ है।

कहानी का माध्यम केवल इतना ही नहीं है, क्योंकि TVF ने 8 एपिसोड लेकर आया है और इन एपिसोड में बहुत कुछ है। यहां उन्हें सचिव जी का ट्रांसफर रुकवाना है और प्रधान जी के चुनाव की भी तैयारी है। प्रधान जी को भी चिंता है, क्योंकि उनके रास्ते में बनराकस नामक व्यक्ति का रोड़ा आ रहा है। बनराकस भी प्रधान बनना चाहता है, और उसने विधायक से मिल लिया है। विधायक जी पर भी कुछ शान्ति नहीं है, क्योंकि उनके सिर पर शनि मंडरा रहा है। कुत्ते की हत्या के मामले में उनकी विधायकी भी खतरे में है। गांव वालों और विधायक जी के बीच टकराव भी देखा जा सकता है। लाठी-डंडा, गोलीबारी, दबंगई, रंगबाजी, और अन्य चीजें इस सीरीज में शामिल हैं।

पिछले सीजन के आखिरी एपिसोड ने हर किसी को अपनी भावनाओं में ले लिया था। प्रल्हाद जी का बेटा राहुल सेना में शहीद हो गया था, और सचिव जी का ट्रांसफर लेटर भी आ चुका था। ‘पंचायत 3’ उसके आगे की कहानी को दिखाती है। अब फुलेरा गांव में कुछ बदलाव हुआ है। सचिव जी अपने शहर चले गए हैं, और प्रल्हाद जी बेटे के निधन के कारण टूटे हुए हैं। पंचायत भवन के सामने शहीद राहुल पांडे पुस्तकालय बन गया है। एक ओर, प्रधान जी, विकास और प्रल्हाद चा सब मिलकर सचिव जी का ट्रांसफर रुकवाने में लगे हुए हैं। दूसरी ओर, गांव में एक नए सचिव का प्रवेश होता है, जिसके सिर पर विधायक जी का हाथ है।

कहानी का आधार होने के साथ ही, TVF ने पूरे 8 एपिसोड्स लेकर आया है, जिसमें व्यापक रूप से विभिन्न घटनाओं का वर्णन है। यहां सचिव जी का ट्रांसफर रुकवाने की कोशिश है और प्रधान जी के चुनाव की भी तैयारी है। प्रधान जी की चिंता है, क्योंकि उनके रास्ते में बनराकस नामक व्यक्ति का रोड़ा आ रहा है। बनराकस भी प्रधान बनना चाहता है, और उसने विधायक से मिल लिया है। विधायक जी पर भी शनि मंडरा रहा है। कुत्ते की हत्या के मामले में उनकी विधायकी भी खतरे में है। गांव वालों और विधायक जी के बीच टकराव भी देखा जा सकता है। इसके अलावा, ‘पंचायत 3’ में रिश्तों की भावनाएं, दबंगई, रंगबाजी, और आंसूओं की कहानी है।

आखिरकार, ये सीरीज देखने लायक है क्योंकि यह न केवल रोमांच से भरा है, बल्कि इसमें गांव के जीवन की अद्भुतता और विविधता भी दिखाई गई है।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.