City Headlines

Home » जब बात की गई, तो परिणाम कुछ अलग ही निकला। उन्होंने डॉक्टर से मिलकर जानकारी प्राप्त की और उनके विचार बदल गए।

जब बात की गई, तो परिणाम कुछ अलग ही निकला। उन्होंने डॉक्टर से मिलकर जानकारी प्राप्त की और उनके विचार बदल गए।

by Nikhil

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाया, जिसके अनुसार 14 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता के माता-पिता ने गर्भ गिराने का आदेश वापस लिया। यह फैसला उनके माता-पिता के द्वारा गर्भावस्था के पूरे अवधि तक इंतजार करने के फैसले के परिणाम में आया। उनके द्वारा यह निर्णय बदला गया, और सुप्रीम कोर्ट ने इसके अनुसार अपने पूर्व आदेश को वापस ले लिया। इसमें नाबालिग को गर्भ गिराने की इजाजत दी जाने वाली थी।

मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला, और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की पीठ ने मामले की सुनवाई की। इस दौरान अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल ऐश्वर्या भाटी और नाबालिग लड़की के माता-पिता के वकील से बातचीत की गई। उनके वकीलों ने कहा कि माता-पिता ने गर्भावस्था की पूरी अवधि तक इंतजार करने का फैसला किया है। इस दौरान माता-पिता ने वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से न्यायाधीशों के साथ बातचीत की। इसके बाद सीजेआई की अगुवाई वाली पीठ ने अभिभावकों की दलीलें स्वीकार की और 22 अप्रैल का आदेश वापस ले लिया।

सुनवाई के दौरान सीजेआई ने कहा कि मां का हित सर्वोत्तम है। इस मामले में अब डॉक्टरों को निर्णय लेना है और उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। इससे पहले कोर्ट में माता-पिता के वकील ने कहा कि नाबालिग की मां ने अपना रुख नहीं बदला है। इसके बाद मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि मेरे चैंबर वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग सुविधा है, जहां हम सायन अस्पताल में मां और डॉक्टरों से बात कर सकते हैं और फिर फैसला कर सकते हैं। इसके बाद चैंबर में माता-पिता ने नाबालिग की सुरक्षा और भलाई को ध्यान में रखते हुए गर्भावस्था को बनाए रखने का फैसला किया।

पहले, शीर्ष अदालत ने नाबालिग की गर्भावस्था को समाप्त करने की याचिका को खारिज करने के चार अप्रैल के बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले को रद्द किया था। अदालत ने अस्पताल के डीन को गर्भपात करने के लिए तुरंत डॉक्टरों की एक टीम गठित करने का निर्देश दिया था। इसके बाद, सुप्रीम कोर्ट में नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता की मां द्वारा याचिका दायर की गई थी। याचिका में गर्भावस्था को समाप्त करने की प्रार्थना को अस्वीकार करने के बॉम्बे हाई कोर्ट के आदेश को चुनौती दी गई थी।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.