City Headlines

Home » ‘खेल में उम्र को लेकर कोई नरमी नहीं, टीम में जगह के लिए युवाओं से टक्कर रहती है’, धोनी का बड़ा बयान

‘खेल में उम्र को लेकर कोई नरमी नहीं, टीम में जगह के लिए युवाओं से टक्कर रहती है’, धोनी का बड़ा बयान

by Nikhil

आईपीएल 2024 से चेन्नई सुपर किंग्स की विदाई हो चुकी है। सीएसके के बाहर होने के बाद महेंद्र सिंह धोनी भी अपने गृहनगर रांची लौट चुके हैं। हालांकि, इस बीच धोनी का एक इंटरव्यू सामने आया है, जिसमें उन्होंने कई मुद्दों पर बातचीत की है। उन्होंने खेल में उम्र के प्रभाव को लेकर भी बातचीत की है। माही ने कहा कि पेशेवर खेल में उम्र को लेकर कोई नरमी नहीं बरती जाती। उम्रदराज खिलाड़ियों को टीम में जगह बनाने के लिए युवा खिलाड़ियों से टक्कर लेनी पड़ती है। इसलिए उन्हें खुद को सुपरफिट रखना पड़ता है। 42 साल के धोनी ने इस सीजन बतौर फिनिशर कुछ बेहतरीन छक्के लगाए। हालांकि, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खिलाफ धोनी अपनी टीम को जीत तक पहुंचाने में नाकाम रहे थे।

धोनी के छक्का मारने की क्षमता और फिटनेस किसी भी अन्य खिलाड़ी जितनी अच्छी है। पूर्व भारतीय कप्तान का कहना है कि उनके पास कड़ी मेहनत करने और फिट रहने के अलावा कोई विकल्प नहीं है क्योंकि कोई भी आपको उम्र के हिसाब से छूट नहीं देता है। धोनी ने 2024 आईपीएल सीजन की शुरुआत में चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी ऋतुराज गायकवाड़ को सौंपी थी। विश्व कप विजेता कप्तान ने आईपीएल 2024 में 220.55 के स्ट्राइक रेट से 161 रन बनाए। कई फैंस का मानना है कि धोनी दो साल और खेल सकते हैं, जबकि कुछ का मानना है माही अपना आखिरी सीजन खेल चुके हैं।

माही ने स्वीकार किया कि लीग से पहले कोई क्रिकेट खेले बिना सीधे आईपीएल में आने के बाद उनके लिए प्रदर्शन करना कठिन है। धोनी ने कहा- सबसे कठिन बात यह है कि मैं पूरे साल क्रिकेट नहीं खेल रहा हूं। इसलिए मुझे फिट रहना होता है। एक बार जब मैं आता हूं, तो आप उन युवाओं से टक्कर ले रहे होते हैं जो फिट हैं और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे हैं। पेशेवर खेल आसान नहीं है, कोई भी आपको उम्र के लिए छूट नहीं देता है। यदि आप खेलना चाहते हैं, तो आपको अन्य लोगों की तरह फिट रहना होगा। उम्र वास्तव में आप पर वह प्रभाव नहीं डालती है। इसलिए खान-पान की आदतें और ट्रेनिंग जरूरी हैं। अच्छा है मैं सोशल मीडिया पर नहीं हूं। इसलिए ध्यान कम भटकता है।

धोनी के लिए खेती करना, बाइक चलाना और पुरानी कारों को ड्राइव करना, उनके लिए स्ट्रेस बस्टर का काम करती हैं। माही ने कहा- एक बार जब मैंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट छोड़ दिया, तो मैं अपने परिवार के साथ कुछ और समय बिताना चाहता था। लेकिन साथ ही मानसिक रूप से सक्रिय रहना, ध्यान केंद्रित रहने का जुनून रखना जरूरी है। मुझे खेती करना पसंद है। मुझे मोटरबाइक और पुरानी कारों का शौक भी है। ये चीजें मुझे तनावमुक्त कर देती हैं। अगर मैं तनावग्रस्त हूं, तो शायद मैं गैराज जाऊंगा, वहां कुछ घंटे बिताऊंगा और मैं ठीक हो जाऊंगा, वापस आ जाऊंगा।

धोनी ने कहा- मैंने हमेशा महसूस किया है कि मैं एक पालतू जानवर के साथ बड़ा हुआ हूं, चाहे वह बिल्ली हो या कुत्ता। हालांकि, मुझे कुत्ते पसंद हैं। उनके मन में आपके प्रति बिना शर्त प्यार होता है। मैंने यह पिछले इंटरव्यू में कहा है। भले ही मैं एक गेम हार जाऊं और जब घर वापस जाता हूं तो मेरा कुत्ता पहले ही वाले अंदाज में मेरा स्वागत करता है। माही ने कहा- हमें उन लोगों का सम्मान अर्जित करने की जरूरत है जिनका आप नेतृत्व कर रहे हैं। आप किसी से सम्मान मांग नहीं सकते। आपको इसे अर्जित करने की आवश्यकता है। मैं सिर्फ यह नहीं कह सकता कि मेरा सम्मान करो!

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.