City Headlines

Home » एग्ज़िट पोल: नेशनलली धांसू, लेकिन बिहार में एनडीए की हार, नीतीश की ताकत पर सवाल; किस दिशा की ओर है अनुमान?

एग्ज़िट पोल: नेशनलली धांसू, लेकिन बिहार में एनडीए की हार, नीतीश की ताकत पर सवाल; किस दिशा की ओर है अनुमान?

by Nikhil

2024 के लोकसभा चुनावों के 7 चरण पूरे हो चुके हैं और बिहार में सभी चरणों में मतदान हो चुका है। चुनाव के अंतिम चरण के बाद, कई एग्जिट पोल एनडीए की जीत का दावा कर रहे हैं, लेकिन बिहार में इसकी सीटों में गिरावट की बातें भी उठाई गई हैं। एग्जिट पोल में एनडीए के सीटों में 4 से लेकर 12 सीटों की हानि का अनुमान है। कुछ एग्जिट पोल में जदयू के भी अधिक नुकसान की बात कही गई है। नीतीश कुमार की पार्टी के सीटों में कमी के साथ-साथ वोट प्रतिशत में भी गिरावट की संभावना है। माना जा रहा है कि नीतीश कुमार को सीट और वोट प्रतिशत दोनों में नुकसान हो सकता है। मैट्रिक्स के एग्जिट पोल के अनुसार, जदयू को 13 सीटों की जीत की संभावना है। पिछले चुनाव में नीतीश कुमार की पार्टी को 16 सीटें मिली थीं, जबकि इस बार उन्हें 3 सीटों का नुकसान हो सकता है। वोट प्रतिशत में भी गिरावट का अनुमान है, जो पिछले चुनाव की तुलना में कम है।

2020 के विधानसभा चुनाव के बाद से बिहार में नीतीश कुमार की पकड़ कमजोर हो रही है, यह बात लगातार चर्चा का विषय रही है। उनकी पार्टी को मात्र 43 सीटों पर जीत मिली थी, जिससे राजनीति जागरूकों का मानना था कि जदयू के वोट बैंक में गिरावट हुई है। अगर आंकड़ों में इस गिरावट की पुष्टि होती है, तो यह चुनाव परिणाम जनता दल यूनाइटेड और नीतीश कुमार के राजनीतिक भविष्य के लिए संकटपूर्ण साबित हो सकता है।

एक्सिस माई इंडिया के एग्जिट पोल के अनुसार, बिहार में एनडीए को 29-33 सीटें मिल सकती हैं, जबकि इंडिया गठबंधन को 7-10 सीटें मिल सकती हैं। इसमें भाजपा को 13-15, जदयू को 9-11, कांग्रेस को एक से दो सीटें मिलने की संभावना है। लोजपा (रामविलास) को पांच सीटें मिलने की भी बात कही गई है।

एग्जिट पोल सिर्फ़ एक अनुमान है, वास्तविक परिणाम चार जून को मतगणना के बाद ही प्रकट होगा। चुनाव मैदान में, एनडीए ने 40 सीटों की जीत का लक्ष्य निश्चित किया था, और सभी चरणों के मतदान के बाद भी, उनके नेताओं ने इस लक्ष्य को जारी रखा है। बिहार में, भाजपा, जदयू, लोजपा (रामविलास) और जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा और उपेंद्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक मोर्चा शामिल है।

बिहार की 40 लोकसभा सीटों में, भाजपा को 17, जदयू को 16, लोजपा (रामविलास) को 5, और जीतन राम मांझी और उपेंद्र कुशवाहा की पार्टियों को एक-एक सीटें मिली थीं। महागठबंधन (इंडिया गठबंधन) में राजद को 26, कांग्रेस को 9, और वामपंथी दलों को 5 सीटें मिलीं थीं। राजद ने अपने कोटे से तीन सीटें मुकेश सहनी की पार्टी, विकासशील इंसान पार्टी को दे दी थीं। पिछले चुनाव में, यानी 2019 में, एनडीए ने 39 सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि कांग्रेस को एक सीट मिली थी, और राजद का कोई सफलता नहीं मिली थी।

Subscribe News Letter

Copyright © 2022 City Headlines.  All rights reserved.